Monday, December 15, 2008

जूता फेंका, वो भी किस पर?

हिमाकत तो देखिये उस बंदे की, जो दुनिया को जूते की नोक पर रखते हैं, उन्हें ही जूता मार दिया। लेकिन मिस्टर बुश ने मामले को तुरंत संभाल लिया। भाई, थोड़ा खराब तो लगा ही होगा, लेकिन माहौल को संभालते हुए जिस तरह उन्होंने अपनी बात जारी रखी वह एक बेहतर लीडरशिप का परिचायक ही है। भले ही पत्रकार महोदय के मन में काफी आक्रोश था, लेकिन ऐसा कर उन्होंने इराकी लोगों का भी अपमान किया है। वैसे इस घटना के बाद शायद बुश साहब अपने भीतर की आत्मा को जागता हुआ पायें कि कहां और क्या गलती हुई। आठ साल बीत गये राज करते और उन्होंने राज किया भी जोरदार। सद्दाम की सत्ता छीन अमेरिकी प्रभुत्व कायम किया और अब जाते समय इराक में जोरदार विदाई की आस लिये गये। लेकिन, यहां ये क्या गजब हो गया। उन पत्रकार महोदय ने जूते चला दिये। ये तो अब जेनरल नॉलेज की पुस्तक में जरूर पूछा जायेगा कि किस अमेरिकी राष्ट्रपति के ऊपर जूते किसने चलाये? वैसे जूते का मॉडल जानने की उत्सुकता सभी को है। पता नहीं, उस जूते फेंकनेवाले महोदय का क्या हाल है?

3 comments:

Gyan Dutt Pandey said...

ऑफ लेट, मैं बुश का मुरीद हो गया हूं। बन्दा निष्क्रिय इण्टेलेक्चुअल तो न था। ठोक आया अफगानिस्तान-ईराक। हमारी संसद और हमारी वाणिज्यिक राजधानी पर हमला हुआ और हम सोच ही रहे हैं!

Cuckoo said...

हा हा हा ...
निशाना तो ठीक ही था पर बुश जी सतर्क थे वरना ये भी पूछा जाता कि कितना बड़ा सूज गया था |
धन्य है वो पत्रकार, उसके हिम्मत की दाद देनी चाहिए |

अविनाश वाचस्पति said...

जूता जूता न रहा
जुट गया नाम कमाने
चल दिये देखो जांच बैठाने
प्रश्‍न जिनके जवाब चाहिये
न हों जवाब तो पूछ सकते हैं
आप भी कुछ सवाल
इन सवालों में सलाहें भी हैं
इन्‍हें अन्‍यथा न लें
यह तो सबका जन्‍मसिद्ध अधिकार है -


1. जूता पत्रकार के पैर का था
2. यदि नहीं, तो किसका था
3. जिसका जूता था, वो सौभाग्‍यशाली रहा या ...
4. जूता किस कंपनी का था
5. जूता कब खरीदा गया
6. जूते का जोड़ीदार कहां है
7. बिना बिल के खरीदा गया
8. बिल कहां है
9. बिल किस दुकान का था
10. जूते ने अपनी बिरादरी का नाम इतिहास में अमर कर दिया
11. जूते ने प्रेरक का काम किया
12. मुहावरों की दुनिया में नये मुहावरे और लोकोक्तियां रची जायेंगी जूताशाली, जूताजुगाड़ वगैरह
13. नये फिल्‍मी गाने और पैरोडियां लिखी जायेंगी - बुश को जूता क्‍यों मारा ...
, जूता है जूता .....,
14. किस्‍मत कनैक्‍शन किसका - बुश का या जूते का ...
15. जूते का एक एक्‍सक्‍लूसिव इंटरव्‍यू लिया जाये ...
16. एक आखिरी - किसी ने यह क्‍यों नहीं कहा कि बुश को बूट क्‍यों मारा - बूट को जूता ही क्‍यों कहा गया जबकि बुश की तुक बूट से मिलती है।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive