Saturday, May 5, 2012

फिल्म हेट स्टोरी - नंगई मानसिकता का ढोल बजाते 'शब्द' बेइज्जत करते हैं...

कल का दिन रोचक था. शाम का समय था. सौभाग्य या दुर्भाग्य से पाओली डैम की फिल्म हेट स्टोरी देख रहा था. ट्रेलर देखकर ये जरूर यकीन था कि फिल्म नंगई की हद पार कर लेगी, लेकिन फिल्म के किरदारों की जुबान इतनी गंदी होगी, ये कतई नहींसोचा. ये माना कि सेंसर बोर्ड में काफी काबिल लोग बैठे हैं, उनमें कैची चलाने की काबिलियत है. लेकिन वो फिल्म में इस्तेमाल किए गए डायलाग्स पर कैची चलाने से क्यों झिझकते हैं, ये एक बड़ा सवाल है.

जब सन्नी लियोन के बहाने देश के नेशनल मैगजींस सेक्स जैसे विषय पर खुलकर बहसबाजी कर रही हैं, उसके बीच में शब्दों का ये खुलापन का खेल भी बड़ी शिद्दत से खेला जा रहा है. यकीन कीजिए कि तस्वीरों की मार से ज्यादा बोले हुए शब्द चोट करते हैं. और इस फिल्म में जिस तरह से चुनिंदे शब्दों का इस्तेमाल हुआ है, उसमें सिर्फ कान में रुई डालकर पिक्चर देखने का सिस्टम डेवलप करना होगा. हमारा फिल्मी तबका लीक से अलग हटकर फिल्म बनाने के बहाने इस कदर बदतमीज होता जा रहा है, ये इस फिल्म को देखकर अहसास होता है.

कहानी कुछ भी, बेसिर पैर भरे हों, लेकिन मानसिक दिवालियापन की हद को पार करता हर शब्द फिल्म में यूज होता जरूर दिखता है. इससे जहां दर्शक फिल्म देखने के बाद खुद को शर्मिंदा तो महसूस कराता ही है, साथ ही इस फिल्म को बनानेवाले तमाम उन व्यक्तित्वों के पेशेवराना अंदाज पर टेंशन भी लेता है कि ये बंदे पूरे देश की सोसाइटी की ऐसी की तैसी करने पर तुले हैं. सन्नी लियोन की कंट्रोवर्सी हो या पूनम पांडेय की. मीडिया से लेकर फिल्म बनानेवाले तक इसी कंट्रोवर्सी की आग में खुद को लोकप्रिय बनाने की होड़ में लगे हैं.

एडवर्टाइजमेंट तक में खुलापन अपनी चरम सीमा पर है. आप तस्वीरों से खेलिए. जो करना हो करिए. लेकिन दिमाग में शब्दों के सहारे गंदगी में फैलाइए. हेट स्टोरी का  एक डायलाग सुनिए-मैं शहर की सबसे बड़ी.... (अनुमान लगाइए). अब बताइए, ये रियलिटी दर्शाने के लिए कौन सा हथियार है. थोड़ा सोचिए, थोड़ा टेंशन दीजिए, कुछ तो करिए. शब्दों की जादुगरी करिए. कुछ ऐसा करिए कि वही किरदार क्लासिक होकर रह जाए. आइ एम रियली नाऊ हेटिंग

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
There was an error in this gadget
There was an error in this gadget

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive