Wednesday, September 17, 2008

थैंक्स विक्रम-एक भेंट, जो दिल को छू गया

बिहार में बाढ़ आयी। जज्बातों का सैलाब उमड़ पड़ा। लाखों हाथ मदद को बढ़े। पर १६ सितंबर को रामकृष्ण विद्यापीठ, देवघर के १४ वर्षीय विक्रम आदित्य की पहल हमेशा के लिए यादगार बन गयी। झारखंड राज्यस्तरीय साइंस सेमिनार में टॉपर बने विक्रम ने पुरस्कार स्वरूप मिले ५० हजार रुपये बिहार के बाढ़ पीड़ितों के नाम दान कर दिये। विक्रम यह राशि अपने स्कूल के माध्यम से भेजेगा।
सबने कहा-थैंक्स विक्रम। हमें नाज होना चाहिए कि विक्रम जैसे लोग हैं। ये हमें रास्ता दिखाते हैं। सकारात्मक सोच के साथ विपत्ति से लड़ने का हौसला प्रदान करते हैं। यहां बात भेंट से ज्यादा इस बच्चे के दिल में उमड़े जज्बात की है। बेहतर जज्बात, अच्छी सोच और कुछ कर गुजरने की ख्वाहिश ही इंसान को बेहतर करने को प्रेरित करती है। शायद यही वह चीज है, जो आगे भी विक्रम को एक सफल इंसान बनने को प्रेरित करेगी।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive