Wednesday, July 8, 2009

कुछ और हो सकती थी एमजे की जिंदगी

माइकल जैक्सन नहीं रहे। हमारी पीढ़ी बचपन से पॉप गायकों में माइकल जैक्सन से रूबरू होती आयी। हम उनकी टांगों की जादुई चहलकदमी से अचंभित रहते थे। उनका जादू हमारे दिलोदिमाग पर छाया हुआ था। टांगों में बिजली की वह रफ्तार अब हमेशा वीडियो के मार्फत ही देखने को मिलेगी। उस जादुई पलों को आनेवाली पीढ़ी देख-देखकर रोमांचित हुआ करेगी। वैसे जितना एमजे की जिंदगी के बारे में जाना, उसमें एक बात साफ है कि एमजे ने अपने शरीर पर हजारों दर्द सहे। उन्होंने अपने चेहरे को बदलवाया। कई आपरेशन कराए।

इतना सबके बाद एक बात जो छूती है कि कोई व्यक्ति कैसे अपने शरीर को प्रसिद्धि के आगे कम आंक सकता है। क्यों नहीं, जैक्सन अपने मूल प्रतिरूप में खुश रहे। उनमें हमेशा बदलाव की चाहत रही। अब उनके निधन के बाद पूरे विश्व के गायक और प्रशंसक एमजे को श्रद्धांजलि दे रहे हैं। एक जिंदगी को कोई व्यक्ति जैसा चाहे जी सकता है। इतना पैसा, सफलता और प्रसिद्धि के बाद भी एमजे तकलीफों से घिरे रहे। उनकी व्यक्तिगत जिंदगी शायद उन अनचाहे रेसों से घिरी रहीं, जिससे बंधकर वह अंतिम समय में लाचार हो गए थे। वैसे में माइकल जैक्सन जैसी शख्सियत की जिंदगी का ऐसा अंत तड़पा जाता है।

एमजे अपने संगीत के माध्यम से लाखों लोगों के जेहन में कैद रहेंगे, इसमें कोई शक नहीं है। लेकिन उनकी जिंदगी और भी अच्छी हो सकती थी। एक बात साफ है कि सिर्फ पैसा, सफलता और ऊंचाई जिंदगी में खुशियों का समुंदर नहीं ला सकतीं। उसके लिए कुछ और चाहिए। जैसे संतुष्टि, पारदर्शिता, खुद के प्रति ईमानदारी और सबसे बड़ी बात जिंदगी से प्यार होना।

3 comments:

RAJIV MAHESHWARI said...

आत्म विश्वास से भरपूर एक अच्छा आलेख।

अंशुमाली रस्तोगी said...

लेकिन वो आदमी अद्भुत था।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

एक अद्भुत व विलक्षण व्यक्तित्व हमारे बीच से चला गया. मुझे अभी तक विश्वास नहीं हो रहा है.

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
There was an error in this gadget
There was an error in this gadget

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive