Thursday, February 25, 2010

भैया आप चीनी और दूध का दाम घटा दो...

बजट को लेकर पूरा जगत चिंतित है। कैसे होगा, क्या होगा, कौन सा तरीका या टैक्स लगाया जाएगा। आज का अखबार अभी से तीन-चार पन्न बजट पर देंगे। लेकिन हमारी सिर्फ एक मांग है, भैया आप चीनी और दूध का दाम घटा दो। पहले गप्पे मारने के लिए चाय का सहारा होता था।  बात करते-करते दो-तीन प्याली चाय पी लेते थे। लेकिन अब डिमांड करने पर चीनी के दाम बढ़ जाने के उलाहने मिलते हैं। मन खट्टा हो जाता है। बिना चीनी के चाय पीते समय लगता है कि कहीं डायबिटीज टाइप की चीज का शिकार तो नहीं हो गया। क्योंकि अब तक वही लोग चीनी का इस्तेमाल करने से मना करते थे, जो डायबिटिक थे। सुषमा स्वराज सदन में बता रही थीं कि एक तरफ चीनी की कमी का रोना रो रहे हैं, वहीं इसका निर्यात किया जा रहा है। हमें तो कुछ नहीं चाहिए, बस पवार साहब चीनी के दाम घटवा दें। कम से कम चाय तो हलक के नीचे आराम से उतरेगी। नहीं तो ये भी पीना हराम हो जाएगा।

1 comment:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

क्या कह रहे हैं झा साहब. कुछ तो ख्याल कीजिये बेचारे चीनी मिल मालिकों का.

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive