Saturday, May 1, 2010

मिला पांच सिरवाला नाग..

हाल में बंगलौर में मिला पांच सिरवाला नाग। अविश्वसनीय लगता जरूर है, पर है बिलकुल सच। ये तस्वीरें गवाह हैं।

19 comments:

महफूज़ अली said...

अद्भुत जानकारी....

संगीता पुरी said...

घर के अंदर की फोटो दिख रही है .. कैसे घुस आया ??

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari said...

अद्भुत और आश्चर्यजनक ...

अविनाश वाचस्पति said...

तस्‍वीरें आजकल गवाही नहीं देतीं
कंप्‍यूटर तकनीक ने उनकी बोलती बंद कर दी है
वैसे रबर का भी हो सकता है
या ऐसा जो किसी फिल्‍म की शूटिंग
के लिए बनाया गया है
वैसे इसका मंदिर बनाया जाए
तो खूब नामा आएगा और
नाम भी बेहिसाब।

शिवम् मिश्रा said...

अगर सच है तो अदभूत है............ वैसे मुझे तो फोटो से कलाकारी की गयी लगती है !

दीपक 'मशाल' said...

sachchai janni ho to is link par jake matha foden.. :)
http://www.google.co.uk/imgres?imgurl=http://static.desktopnexus.com/wallpapers/29437-bigthumbnail.jpg&imgrefurl=http://skepticdetective.wordpress.com/2010/04/10/five-headed-snake/&h=396&w=450&sz=161&tbnid=6Q5xsn4t5ZQCBM:&tbnh=112&tbnw=127&prev=/images%3Fq%3D5%2Bheaded%2Bsnake&usg=__xA4OG8VUKDl8C2QDDQd2n1T9kSg=&ei=wI_cS-jmL5aI0wTN5NjDBw&sa=X&oi=image_result&resnum=3&ct=image&ved=0CAoQ9QEwAg

Udan Tashtari said...

आश्चर्यजनक ...

कविता वाचक्नवी Kavita Vachaknavee said...

Photo-shop trick.
Five headed snake e-mails are rubbish, press delete!

prabhat gopal said...

dipak mashal ji is true.. after searching the result of five headed snake i found the report, which says that these photos are clever digital jugglery.

the report is here, taken from Deccan CHRONICLE.

4: To many it seems a wonder of nature and a proof of their faith. The picture of a five- headed snake supposedly taken near Kuke Subrahmanya, which has appeared of late on the Net, has awed devotees and nature lovers alike.
But a closer look at the picture reveals it to be the result of some clever digital jugglery, perhaps by a tech savvy devotee.
The management of the Subrahmanya Temple too has clarified that no such snake has been seen near the temple.
“None of our officials have come across a five-headed snake in the region and nor have any of our devotees reported seeing one,” says the Puttur assistant commissioner, who is also administrator of the Kukke Subrahmanya temple.
“If someone had really seen such a snake he would have wanted credit for the picture posted on the Net, but these mails are being sent anonymously,” points out another temple officer.
But not everyone is convinced the picture is fake, whatever the arguments given to the contrary. Many continue to believe there may be a five headed snake out there and are hoping to be told more about it. The snake story is still a hot topic of discussion in many homes as a result.

Shekhar Kumawat said...

ab to ye kisi ko kate or wo mar jaye to duniya walo ko viswas hove

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey said...

कलजुग आ गया है!

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

simply a morphed picture...

MAYUR said...

शानदार जानकारी, मजा आया बाकि लिंक्स पर जा कर भी

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

पाण्डेय ज्ञानदत्त जी की टिप्पणी काबिले गौर है।

हमारे यहाँ मंदिर में भी एक पाँच फन वाला नाग हुआ करता था, जिस का इस्तेमाल हम सावन में झांकी बनाने के लिए करते थे। चाहे वह कालियमर्दन की हो या शेषशायी विष्णु की। बहुत मजेदार था वह नाग। इस चित्र वाले से अधिक सुंदर और आकार में कम से कम दस गुना बड़ा भी। जब झाँकी में वह सजता था लोग उसे असली समझ सिर नवाते थे और सामने रखी थाली में सिक्के चढ़ाते थे।
इस नाग में एक ही तकलीफ थी कि हर साल इस के पाँचों फनों को पेंटर से रंगवाना पड़ता था और पूँछ में लकड़ी का बुरादा भरना पड़ता था, उसे शक्कर के एक बोरे में आ जाए इतना बुरादा चाहिए था।

E-Guru Rajeev said...

ईश्वर के चमत्कार और कृत्य समझ-बूझ पाना बड़ा ही कठिन है.
अद्भुत है यह तो ......

ललित शर्मा said...

नकली है।
अविश्वनीय्।

मयंक said...

कई महानुभावों को ये आश्चर्यजनक लगा...तो कई को अविश्वसनीय....मैं इस बात की ना केवल गारंटी दे सकता हूँ...बल्कि ये साबित भी कर सकता हूँ की ये तसवीरें नकली हैं....फोटो शॉप का प्रयोग कर के बेहद आसानी से आप भी ये कर सकते हैं....मैं और कोई भी मल्टी मीडिया का जानकार ये समझ जाएगा.....वैसे बता दूं की ये खेल भी बहुत सफाई से और मेहनत से नहीं हुआ....तस्वीर देखने में ही सामने पकड़ में आ जाती है....दूसरी तस्वीर में नाग के फन जहां आपस में एक हो रहे हैं ध्यान से देखिये....एक फन के क्लोन हैं सब....
मुझे लगता है की पढ़े लिखे और समझदार ब्लॉगर भाइयों को ऐसी पोस्ट्स डालने से बचना चाहिए....

parul said...

Rubbish man! are you playing kabaddi with it at roof.

parul said...

People like you are plying with emotions of devotees.God bless you with hell.

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
There was an error in this gadget
There was an error in this gadget

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive