Monday, August 25, 2008

लुभाता रहेगा मिस्टर परफेक्शनिस्ट का दमदार अभिनय


आज आमिर फिल्म इंडस्ट्री के जाने-माने अदाकार हैं। सही अदाकार, अभिनेता समाज के लिए एक रोल मॉडल होता है। इस रूप में अगर कोई आज की तारीख पूरी तरह फिट है, वे आमिर ही हैं। अपनी हर कोशिश में उन्होंने दशॆकों के ऊपर अपनी एक खास छाप छोड़ी है। जब भी कोई तीन घंटे बीता कर थिएटर से निकलता है, तो उसके मन में एक अनजाना सा अहसास घर कर जाता है। अहसास होता है कि हावी होते जा रहे बाजारवाद में भी सामाजिक जिम्मेदारी निभानेवाला शख्स आज भी फिल्म इंडस्ट्री में मौजूद है। आमिर भी अपनी हर फिल्म को हर कोण से बेहतर बनाने की कोशिश में लगे रहते हैं। इसलिए तो उन्हें मिस्टर परफेक्शनिस्ट भी कहा जाता है। वैसे सैमसंग के एडवरटाइजमेंट में आमिर कहते नजर आते हैं कि वह हर पल एक नयी दिशा और नये चिंतन की तलाश में रहते हैं। हर सफलता के बाद एक नयी ऊंचाई की तलाश में मन भटकता रहता है। यही सच भी है। साल में चुनिंदा फिल्में करनेवाले आमिर की जितनी भी तारीफ की जाये, कम ही होगी। ९० की शुरुआत में आमिर की फिल्म जो जीता वही सिकंदर ने आम दशॆकों को काफी प्रभावित किया था। इस फिल्म में आमिर का रोल खास था। उन्हें एक बेपरवाह बेटे और भाई को जुझारू और जिम्मेदार बनते हुए दिखाना था, काम कठिन था, लेकिन आमिर ने उस भूमिका को इतना संजीदा होकर निभाया कि आज तक उसकी छाप आम दशॆकों के मन पर साफ झलकती है। साफ तौर पर सहम सभी उनसे इतने प्रभावित हैं, उनके बोल ठंडा मतलब कोका-कोला सबकी जुबान पर रातों-रात छा जाता है। कयामत से कयामत तक से लेकर तारें जमीं पर तक के आमिर ने लंबी पारी खेली है। उनका व्यक्तित्व, फिल्म निमाॆण के प्रति सही सोच और एक सकारात्मक दृष्टिकोण ही ऐसा है, जो उन्हें हर अगले अभिनेता से अलग खड़ा करता है।
सऱफरोश में उनके द्वारा अभिनीत जांबाज आइपीएस अफसर का रोल हर युवा मन को प्रभावित करता है। देश और समाज के लिए कुछ करने के जज्बात से भी युवा रू-ब-रू होता है। थोड़े शब्दों में कहा जाये, तो उनकी फिल्मों में समाज के प्रति हमेशा एक संदेश छुपा होता है। तारे जमीं पर फिल्म में उन्होंने बच्चों की उस जिंदगी को समझने की कोशिश की है, जिसके बारे में हम अकसर अनजान रहते है। उनकी जिंदगी को समझने के लिए एक नया एंगल दिया है। खबर है कि आमिर फिर एक नये एडवरटाइजमेंट में नजर आयेंगे। यह भी अनोखा ही होगा। क्योंकि आमिर की जगह कोई दूसरा नहीं ले सकता है। उम्मीद है कि आमिर अब और भी बेहतरीन फिल्में बनाकर और अपने दमदार अभिनय से हमारा मनोरंजन करते रहेंगे और हमें नयी दिशा दिखाते रहेंगे।

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive