Sunday, February 8, 2009

लाइलाज अस्पताल

रोज आफिस से जाते रास्ते पर
एक व्यक्ति मिलता है पड़ा
शरीर पर आधे कपड़े
बिखरे बाल और ऊपर ताकती आंखों के साथ

सुना है बगल में अस्पताल है
कभी वह भी इसी अस्पताल में आया होगा
इलाज के लिए
लेकिन आज अपनों से दूर
गुमनाम बने हुए
बस मौत के इंतजार में
समय के थपेड़ों के साथ
जी रहा है एक जिंदगी
जो हिलाती है मर गयी संवेदनाओं को

उस रास्ते पर हर आदमी सामने देखता
ट्रैफिक के जंजाल में
हर रोज निकल जाता है
बिना कुछ पूछे

ऐसे न जाने कितने बेचारे होंगे
पड़े होंगे
हर अस्पताल के सामने
जो इलाज के लिए खुले हैं
लेकिन इंतजार में हैं
कि खुद उनका इलाज हो
क्योंकि वहां पूछ सिफॆ पैसे, पैरवी की है
किसी मिस्टर या देवी की है
उस बेचारे को तो अस्पताल भूल गया है
खुद के झमेलों में फंसा
समस्याओं के जाल में झूल गया है

देखना है कब अंदर की आभा जागती है
उन बेचारों को तलाशती है
बस इसी इंतजार में ....
रोज उस रास्ते से आफिस जाता हूं
जहां मिलता है वह बेचारा

2 comments:

ज्ञानदत्त । GD Pandey said...

इलाज उत्तरोत्तर मंहगा होता जायेगा और सामान्य मनई की बेचारगी और भी दिखने लगेगी।
भोजन आसानी से शायद मिल सके पर स्टेट सपोर्ट के अभाव में इलाज व्यवस्था निकम्मेत्तर होती जायेगी।

परमजीत बाली said...

बहुत सामयिक रचना है। आज सच मे इलाज करवाना बहुत महँगा हो गया है।
बहुत सुन्दर रचना लिखी है।बधाई।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive