Thursday, July 29, 2010

हमारे नेता और उनका फिटनेस

सुबह के अखबार में ब्रिटिश प्रधानमंत्री को बैट-बॉल खेलते देखा. अनुमान के हिसाब से कपिल साहब की उम्र के तो होंगे ही. बराक ओबामा साहब को देखिये, फिटनेस के मामले में सबको मुंह चिढ़ाते हैं. क्लिंटन दंपति को देखें या फ्रांस के राष्ट्रपति महोदय को, सब उम्र की शाम में युवा नजर आते हैं. आप कहिएगा, भाई प्रभात ये क्या मामला लेकर बैठ गए, तो हमारा मकसद यहां किसी का अपमान करना नहीं, बल्कि अपने नेताओं के फिटनेस को लेकर चिंतन करने को लेकर है. डगमगाते पैरों से ज्यादातर नेताओं को भारी भरकम शरीर के साथ चलते देखता हूं, तो लगता है कि हम और हमारे नेता ऐसे क्यों हैं? क्या हम ज्यादा आरामतलब हैं या पश्चिम के नेता फिटनेस को लेकर कुछ खास करते हैं. हम भारतीय लोग पूरी तरह एक दूसरी जिंदगी जीते हैं. एक औसत भारतीय मिडिल क्लास नियमित आमदनी को लेकर संघर्ष करता रहता है. बुढ़ापे के लिए कुछ बचाता है और फिर बेटे-बेटियों की शादी कर मौत का इंतजार करता है. थोड़ा दार्शनिक होकर कहें, तो जिम्मेदारियों का निर्वाह करते चलता है. ये जिम्मेदारी का अहसास उसके मन में इतनी गहरी पैठ बनाए रहती है कि वह कुछ और नहीं सोचता. उसके लिए फिटनेस सिर्फ युवाओं के लिए क्रेज की बातें होकर रह जाती हैं. सच में कहें, तो खुद में भी वैसा जुनून नहीं आ पाता. मेट्रो और बड़े लोगों के पास फिटनेस को लेकर सौ फंडे हैं, वे अपने लिये रास्ता चुन भी लेते हैं. लेकिन अपार्टमेंट और कुकुरमुत्ते की तरह उग आयी कालोनियों के लोग मैदानों के अभाव में सड़कों पर ही टहलते रहते हैं.अब बात नेताओं की करें, तो हमारे नेताओं के लिए रिटायरमेंट की कोई उम्र नहीं होती. हम ऊंचे पदों पर भी बुजुर्गों को चुनकर  सम्मानित महसूस करते हैं.  मुझे तो ऐसेभी याद हैं, जिन्हें हमारे राज्य में नियुक्ति के समय सहारा देकर चलाना पड़ता था. उस समय लगता था कि क्या हमारे देश में ऊंचे पद पर सहारा देकर चलाना पड़ता था. जो भी हो, मामला तो सोचनेवाला है ही. लोग बताते हैं कि नेहरू और गांधी
फिटनेस के मामले में दूसरों को मात देते थे. पर हमारे आज के नेता..... उफ..

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

नेता फिट हो जायें या फिट लोग नेता हो जायें।

शिवम् मिश्रा said...

एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
आपकी चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं!

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
There was an error in this gadget
There was an error in this gadget

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive