Sunday, February 13, 2011

चमनलाल और नेशनल गेम्स का चक्कर

नेशनल गेम्स में कार्यक्रम पेश करते सुखविंदर
कार्यक्रम पेश करते कलाकार
११ फरवरी की रात एक जलजला सा आ गया था. चमनलाल परेशान हो गए. उन्हें नेशनल गेम्स का पास ही नहीं मिला था. वे इतने परेशान हो गए कि जान-पहचान वाले मीडिया के लोगों को फोन लगाया. कहा-भइया आप लोगों को तो बड़ा पहुंच है, एकठो पास दिलवा दीजिए.अब मीडिया वाले ऐसा होने के बाद मुंह ताकने लगे. वे कैसे कहते कि उन्हें खुद पास नहीं मिला है.बाहर तो हांक देते हैं कि ऐसे-वैसे हैं, लेकिन यहां तो खुदे पूछ नहीं है.चमनलाल ने नेतवन सब के पास गए, तो वे भी हाथ उठा चल दिए. चमनलाल ने ठान लिया कि नेशनल गेम्स में समीरा रेड्डी और अमिशा पटेल आ रही हैं और वो नहीं जाएंगे , ऐसा हो नही सकता. चमनलाल शिकायत लेकर पहुंच गए मीडिया के दरबार में. मीडिया वाले उनकी शिकायत सुन खाली मुस्कुरा दिए. वो बोले-चचा चिंता मत कीजिए, कोनो ना कोना सेटिंग करके पास दिला देंगे. चमनलाल बोले-मीडिया का पावर को क्या हो हया है. एकठो पास तक नहीं दिला सके हैं. अब चमनलाल अपना हाइ कांटेक्ट को यूज करने के लिए दौड़ पड़े. चमनलाल को एक पास मिल गया जैसे-तैसे. अब चमनलाल नेशनल गेम्स में पहुंच गए कार्यक्रम देखने. वहां पर समीरा रेड्डी का डांस उनको दिखिये नहीं रहा था. वैसे लेजर शो देखकर मन चंगा हो गया. चमन लाल अमिशा पटेल को भी देखे. वे एक बात जरूर कहते हैं कि अर्जुन मुंडा ने बाजी मार ली है. इस बार गेम्स कराके दिखा दिए हैं. चमनलाल लेकिन एक बात पूछते हैं कि लोकल कलाकार सबको क्यों नहीं महत्व दिया गया? वे बेचारे कब मौका पाएंगे. इ सवाल मन को छू गया. चमनलाल सवाल मास्टर हैं. बड़ी सवाल करते हैं. वैसे चमनलाल आज भी नेशनल गेम्स का गेम सब देखने गए. लेकिन पब्लिक नदारद थी. चमनलाल को अब क्लोजिंग सेरेमनी का इंतजार है. बोले हैं-दो सप्ताह बाद अब फिर मिलते हैं. हम भी बोले ठीक है..तब तक के लिए पीछा छोड़िए.

3 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

जय हो चमन लाल जी की...

अरूण साथी said...

करारा

प्रवीण पाण्डेय said...

चमनलालजी टीवी पर देख लें।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
There was an error in this gadget
There was an error in this gadget

अमर उजाला में लेख..

अमर उजाला में लेख..

हमारे ब्लाग का जिक्र रविश जी की ब्लाग वार्ता में

क्या बात है हुजूर!

Blog Archive